Internet क्या हैं इसके प्रकार

हैलो दोस्तो आज के पोस्ट में हम Internet के वाले में पढेगे तो आप पोस्ट को पूरा जरूर पढ़े।

  1.  इंटरनेट क्या है  (What Is Internet in Hindi)
  2. इंटरनेट का Full Form (Internet Full Form in Hindi)
  3. इंटरनेट का इतिहास  (History of Internet in Hindi)
  4. इंटरनेट के प्रकार  (Types of Internet in Hindi)
  5. इंटरनेट के उपयोग (Internet Uses in Hindi)
  6. इंटरनेट की विशेषताएं
  7. इंटरनेट से जुड़ी कुछ शब्दालियाँ Some terminologies of Internet in hindi)
  8. इंटरनेट सुविधा की उपलब्धता (Internet service provider)
  9. इंटरनेट के फायदे (Benefits of Internet)
  10. इंटरनेट के नुकसान (Disadvantages of Internet)

इंटरनेट क्या है (What Is Internet in Hindi)

Internet एक Global Computer Network है, जो की पूरी दुनिया में एक Network जाल के माध्यम से जुड़ा हुआ है। यह मानकीकृत संचार प्रोटोकॉल का उपयोग करके दुनिया कई प्रकार की महत्वपूर्ण जानकारियां और सुविधाएँ प्रदान करता है। यह लाखो कंप्यूटर के साथ जुड़ा हुआ होता है। यहाँ पर आपको सभी तरह की जानकारिया मिलती है, जिन्हे आप Text, MP3, Audio, Video, और PDF आदि प्रकार से जानकारी प्राप्त कर सकते है।

Internet किसी भी एक व्यक्ति के आधीन नहीं होता है, और ना ही इंटरनेट को सरकार द्वारा चलाया जाता है। बल्कि इसके अंदर अलग अलग Private Company और Organization के Server होते है। इंटरनेट में जानकारी प्राप्त करने के लिए World Wide Web का उपयोग किया जाता है। इसके माध्यम से हम अपने किसी भी प्रोडक्ट का विज्ञापन उचित दर में किया जा सकता है। साथ ही आप अपने प्रोडक्ट के अलावा, लेख, रिपोर्ट आदि को प्रदर्शित करने के लिए भी यह एक सस्ता साधन है।

Internet Client Server की वास्तुकला पर आधारित है, जिसमे कंप्यूटर और मोबाइल के द्वारा इंटरनेट पर मौजूद सूचनाओं का उपयोग किया जाता है, उन्हें Client कहते है। और जहाँ पर सभी सूचनाएं सुरक्षित रखी जाती है, उन्हें Server कहा जाता है। जैसा की आपको पहले ही बताया गया है, की इंटरनेट पर मजूद सूचनाओं को प्राप्त करने के लिए WWW (Word Wide Web) का उपयोग किया जाता है, जो की Web Browser में उपयोग किया जाता है। किसी भी तरह के Document को प्रदर्शित करने के लिए हाइपर टेक्स्ट का उपयोग किया जाता है। उम्मीद है, आपको समझ आ गया होगा, की इंटरनेट क्या है।

इंटरनेट का Full Form (Internet Full Form in Hindi)

Internet का Full Form InterConnected Network होता है। जिसमें हजारो-लाखो Network Connected होते हैं। यह एक प्रकार का कंप्यूटर नेटवर्क है। लेकिन इसे Network का भी Network कहा जाता है। यह दुनिया का सबसे बड़ा Network है। क्योंकि इसमें दुनिया के सभी Computer और अन्य Electronic Device जुड़ते हैं या फिर जुड़े रहते हैं।

इंटरनेट का इतिहास  (History of Internet in Hindi)

इंटरनेट की शुरुआत सन 1969 तक पहला कदम बढ़ चुका था।  इसका पहली बार ASPANET के द्वारा बनाया गया था। और इसके द्वारा Secret Messages को एक दूसरे तक पहुँचाया जाता था।

शुरू में उसका इस्तेमाल करके US के पाँच Universities के Computers को आपस मे Connect किया गया | इसके बाद 1972 तक समय मे 23 NODE और इसके बाद यह दुनिया के कई देशों के साथ जुड़ चुका था।

शुरू के समय मे इसको Private Network के तौर पर गोपनीय जानकारी को भेजने के लिए इस्तेमाल किया जाता था।

लेकिन दिन प्रतिदिन इसमे सुधार होते गए और बाद में यह सभी के लिए उपलब्ध कर दिया गया। और आज के समय मे यह सबसे बड़ा Business बन चुका है।

इंटरनेट के प्रकार (Types of Internet in Hindi)

INTERNET आज की दुनिया में एक सबका जरूरत बन गया है। किसी भी सिनेरियो की कल्पना करें और आप महसूस करेंगे तो पता चलेगा अब जीवन के हर पहलू में इंटरनेट का उपयोग किया जाता है। इंटरनेट एक ग्लोबल नेटवर्किंग सेवा प्रदान करने वाला माध्यम है जो कंप्यूटर सिस्टम को INTERNET की दुनिया से जोड़ता है। यहाँ हम इंटरनेट के इंटरनेट के प्रकार और उनके प्रोटोकॉल पर चर्चा करने वाले हैं।

ऐसे कई प्रकार हैं जिसमे आप एक एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण इंटरनेट से जोड़ सकते है। यह सभी अलग-अलग हार्डवेयर का उपयोग करके अलग अलग प्रकार के सेवाएं देते हैं। और प्रत्येक में इंटरनेट कनेक्शन प्रकार की गति की एक सीमा होती है। विभिन्न प्रकार के इंटरनेट कनेक्शन हैं जो व्यवसाय, घर और व्यक्तिगत उपयोग के लिए उपलब्ध हैं, इसे उनकी औसत गति के साथ जोड़ा जा सकता है। निम्नलिखित इंटरनेट के प्रकार हैं :

  1. Dial-Up Connection
  2. DSL
  3. ISDN
  4. BROADBAND
  5. CABLE
  6. MOBILE
  7. WIFI HOTSPOTS
  8. SATELLITE
  9. FIBRE OPTICS

यह निर्धारित करते समय कि आपके बिज़नेस या आपके परिवार के लिए किस प्रकार के इंटरनेट कनेक्शन और इंटरनेट गति का सही प्रकार है, उसके प्रत्येक कनेक्शन के बीच के अंतर को समझना महत्वपूर्ण होजाता है। आज के युग में, ज़्यदातर डेस्कटॉप, लैपटॉप, मोबाइल फोन, गेमिंग कंसोल, टैबलेट और ई-रीडर को इंटरनेट से जोड़ने के कई आसान तरीके हैं।

1. Dial-Up Connection

डायल-अप कनेक्शन इंटरनेट के प्रकार में यह शुरवाती समय में उपयोगकर्ताओं को इंटरनेट एक्सेस करने के लिए अपनी फोन लाइन को कंप्यूटर से लिंक करने की आवश्यकता होती थी । एक पारंपरिक टेलीफोन लाइन पर एक टेलीफोन नंबर को डायल करके Internet Service Provider (ISP) से कनेक्शन स्थापित करने के यह विशेष प्रकार का कनेक्शन जिसे एनालॉग कनेक्शन भी कहा जाता है।

टेलीफोन को मॉडेम नाम के उपकरण से ज्यादा जाता था जो सिंग्नल एनकोड और डिकोड करके एनालॉग को डिजिटल डेटा में कन्वर्ट करता था।

उपयोगकर्ताओं को इस प्रकार इंटरनेट का उपयोग करते समय अपनी होम फोन सेवा के माध्यम से कोई भी फोन कॉल करने या रिसीव करने की अनुमति नहीं देता है।

अब यह इंटरनेट प्रकार पुराना हो चुका है, डायल-अप कनेक्शन सबसे आम इंटरनेट कनेक्शन प्रकारों में से एक हुआ करता था जिसे उपयोग करना महंगा भी पड़ता था ।

2. DSL

एक इंटरनेट के प्रकार में DSL, यह जो डिजिटल सब्सक्राइबर लाइन के मूल रूप से जाना जाता है, यह चालू 2-तार तांबे की टेलीफोन लाइन का उपयोग करता है। इसलिए जब आपका कंप्यूटर इंटरनेट के लिए कनेक्ट होता है, तो आपका फ़ोन जुड़ा नहीं होता है इसलिए इस से दो सेवा मिलती है, आप एक साथ टेलीफोन लैंडलाइन का उपयोग और इंटरनेट सेवा ले सकते है, यह डायल-अप कनेक्शन के बाद प्रचलन में आया था और इसकी स्पीड भी ज्यादा थी।

DSL डेटा के ट्रांसपोर्ट करने के लिए एक राउटर का उपयोग करता है और 128Kb से 8mbps स्पीड पर इंटरनेट सेवा मिलता है।

3. ISDN

ISDN (Integrated Services Digital Network) उपयोगकर्ताओं को डिजिटल टेलीफोन लाइनों या स्टैंडर्ड टेलीफोन तारों पर डेटा, वॉइस और वीडियो कंटेंट भेजने की अनुमति देता है। एक ISDN adapter की स्थापना की आवश्यकता होती है

ट्रांसमिशन के दोनों एन्ड पर एक उपयोगकर्ता के एन्ड में साथ-साथ इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर के एन्ड में जिस से यह इंटरनेट एक्सेस होता है।सबसे पुरानी इंटरनेट एक्सेस तरीको में से एक है जो की बहोत प्रचलित हुआ करता था।

4. Broadband

यह आधुनिक इंटरनेट के प्रकार में से एक है जो हाई-स्पीड इंटरनेट कनेक्शन केबल या टेलीफोन कंपनियों के द्वारा सेवा प्रदान किया जाता है। यह आज के उपलब्ध इंटरनेट में सबसे तेज़ विकल्पों में से एक है, ब्रॉडबैंड इंटरनेट पर बड़ी मात्रा में डेटा भेजने के लिए कई डेटा चैनलों का उपयोग करता है।

5. CABLE

केबल इंटरनेट कनेक्शन भी एक प्रकार का ब्रॉडबैंड एक्सेस का एक रूप है। केबल इंटरनेट hybrid fiber coaxial तारों पर केबल मॉडेम का उपयोग करके इंटरनेट एक्सेस किआ जाता है जो मूल रूप से यह केबल टेक्नोलॉजी टेलीविजन सिग्नल को ले जाने के लिए विकसित किया गया था।

केबल मॉडेम के उपयोग के जरिये से, उपयोगकर्ता केबल टीवी लाइनों पर INTERNET का उपयोग कर सकते हैं। CABLE MODEM इंटरनेट तक बहुत तेजी से एक्सेस प्रदान कर सकते हैं, जिससे केबल कनेक्शन कई लोगों के लिए एक बढ़िया विकल्प बन जाता है।

6. Mobile

आजकल लोग स्मार्टफोन का उपयोग करके इंटरनेट को एक्सेस कर रहे हैं, यह उपभोक्ता अच्छा विकल्प देता है। आप अपने फ़ोन के नेटवर्क प्रोवाइडर से 3G या 4G और सबसे नया 5G नेटवर्क के माध्यम से इंटरनेट को आसानी एक्सेस कर सकते हैं।

7. Wi-fi Hotspots

Wi-fi Hotspots ऐसी साइटें हैं जो एक राउटर के माध्यम से Wireless local area network (WLAN) पर इंटरनेट एक्सेस की सुबिधा देता हैं। एक वायरलेस राऊटर को एक इंटरनेट सेवा प्रदाता से जोड़ना पड़ता है जिस से अनेक प्रकार के उपकरण जिसमे Wi-fi हो उसे कनेक्ट कर सकते हैं।

8. SATELLITE

कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में जहां अभी तक ब्रॉडबैंड कनेक्शन की पहुंच नहीं है, उसी जगह पर सैटेलाइट से इंटरनेट को एक्सेस कर सकते है। एक सैटेलाइट इंटरनेट रिमोट एरिया के लिए अच्छा विकल्प हो सकता है । यह वायरलेस एक्सेस के समान, सैटलाइट कनेक्शन एक मॉडेम का उपयोग करता है।

9. FIBRE OPTICS

कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में जहां अभी तक ब्रॉडबैंड कनेक्शन की पहुंच नहीं है, उसी जगह पर सैटेलाइट से इंटरनेट को एक्सेस कर सकते है। एक सैटेलाइट इंटरनेट रिमोट एरिया के लिए अच्छा विकल्प हो सकता है । यह वायरलेस एक्सेस के समान, सैटलाइट कनेक्शन एक मॉडेम का उपयोग करता है।

इंटरनेट के उपयोग Internet Uses in Hindi

अपने शुरूआत के दिनों में इंटरनेट का उपयोग सिर्फ वैज्ञानिकों द्वारा एक दूसरे को रिसर्च पेपर तथा अन्य सूचनाए साझा करने तक सीमित था।

लेकिन धीरे- धीरे इंटरनेट का विकास होता गया और इसमें नई-नई तकनीक को जोडा गया. जिसका वर्तमान स्वरूप हम आज देखते है. आधुनिक इंटरनेट हमारी जीवनशैली का हिस्सा हो गया है. हमारे रोजमर्रा के लगभग सारे कार्य इंटरनेट के माध्यम से घर बैठकर किये जाने लगे है।

अपने शुरूआत में इंटरनेट सिर्फ सूचनाओं के साझा करने तक सीमित था. लेकिन, वर्तमान इंटरनेट अपने पैर लगभग हर क्षेत्र में फैला चुका है. चिकित्सा से लेकर दैनिक उपयोग के सामान की खरीदी तक।

आइए जानते है इंटरनेट के कुछ प्रमुख क्षेत्र जहाँ इंटरनेट का उपयोग किया जाता है. ये निन्मलिखित है। 

  1. संप्रेषण के लिए (To Communicate)
  2. खोजने के लिए (To Search Information)
  3. मनोरंजन के लिए (To Entertainment)
  4. खरीदी के लिए (To Shopping)
  5. शिक्षा के क्षेत्र में (In Education)
  6. ई-गवर्नेस के लिए (To Provide Governance)
  7. इंटरनेट से ऑनलाइन शॉपिंग के उपयोग
  8. सरकारी दफ्तरों में (In Government Offices)

1. संप्रेषण के लिए (To Communicate)

इंटरनेट का सबसे अधिक उपयोग हम एक दूसरे से सम्पर्क साधने के लिए करते है। इंटरनेट के द्वारा हम कभी भी और कहीं भी शीघ्रता से अपने चाहने वालो को संदेशा भेज एवं प्राप्त कर सकते है। इंटरनेट पर संदेश भेजने का एक तरीका e-Mail है।

ई-मेल के अलावा सोशल मीडिया साइट्स जैसे फेसबुक, ट्वीटर, वाट्सएप, टेलिग्राम, इंस्टाग्राम आदि के जरिए हम रियल टाइम में अपने करिबियों से जुड़े रह सकते है और उनकी हर एक गतिविधि को अपनी आँखों से देखते रह सकते है।

2. खोजने के लिए (To Search Information)

इंटरनेट को विकसित ही इसलिए किया गया था. आज से पहले कभी भी इस प्रकार सूचनाए प्राप्त करना आसान नही था. लेकिन आज हम इंटरनेट के माध्यम से दुनिया के किसी भी कोने से जानकारीयाँ प्राप्त कर सकते है और वो भी कुछ सैकण्डों मे हम दुनिया के हर कोने की खबर घर बैठे अपने कम्प्यूटर पर ले सकते है। इंटरनेट पर जानकारी/सूचनाएं खोजने के लिए Search Engines का उपयोग किया जाता है।

3. मनोरंजन के लिए (To Entertainment)

इंटरनेट का उपयोग मनोरंजन के साधन के रूप में किया जाता है. मनोरंजन के क्षेत्र मे विकल्प असीमित है. इसके माध्यम से हम फिल्में, गाने, विडियों आदि को देख तथा सुन सकते है।

पढने के शौकिन अपने मनपसंद लेखक को पढ‌ सकते है. इसके अलावा हर वक्त का मनोरंजन विडियो गेम कि दुनिया तो हमारे लिए हर वक्त खुली होती है।

यूट्यूब पर लाखों मनोरंजन चैनल मौजूद है. जिनके ऊपर रोजाना कॉमेडी, शायरीयाँ, रोमेंटिक वीडियों, फिल्म डायलॉग्स, देशी कलाकारों द्वारा निर्मित विडियों, गाने आदि अपलोड किये जा रहे है। आप बिना शुल्क के फुल मनोरंजन प्राप्त कर सकते है।

आपको खुद वीडियों बनाने का शौक है तो आप इसके लिए खुद का यूट्यूब चैनल शुरु करें और विडियों बनाकर अपलोड करें। इसी तरह Like, TikTok जैसी माइक्रो वीडियों प्लैटफॉर्म्स पर भी वीडियों देखें वे बनाए जा सकते है।

4. खरीदी के लिए (To Shopping)

इसे ई-व्यापार (e-Commerce) कहते है. इंटरनेट के माध्यम से बाजार को घर से ही देखा जा सकता है और अपना सामान खरीदा जा सकता है।

इसके द्वारा घर बैठे ही किस दुकान पर कौनसा सामान है और कौनसा नही तथा उस सामान के ढेरो विकल्प एक साथ देखकर पसंद से अपना सामान खरीद सकते है. इसके अलावा प्रचलित फैशन की जानकारी भी जुटाई जा सकती है।

अमेजन, फ्लिपकार्ट, स्नैपडील, पेटीएम मॉल, मिंत्रा, वालमॉर्ट, अलिबाबा, ईबे कुछ प्रचलित ऑनलाइन शॉपिंग मार्केटप्लैस है।

5. शिक्षा के क्षेत्र में (In Education)

इसे e-Learning (ई-शिक्षा) कहते है. यह क्षेत्र तेजी से बढ रहा है. आज इंटरनेट के माध्यम से हम घर में बैठकर ही अपने लिए मनपसंद कॉलेज, स्कूल चुन सकते है।

इसके अलावा हमारे पसंद के कोर्स किस कॉलेज में उपलब्ध है और उस कोर्स के बारे में सारी जानकारी यथा कोर्स की फीस, कोर्स का समयावधि आदि, यह जानकारी हम अपने कम्प्यूटर पर प्राप्त कर कर सकते है।

आज ई-लर्निंग का क्षेत्र काफि विकसित हो चुका है. हम घर बैठे-बैठे ही दुनिया के बेहतरीन अध्यापकों से पढ़ सकते है. और दुनिया की टॉप युनिवर्सीटीज में एडमिशन लेकर पढ़ाई करने की सुविधा का लाभ भी ले सकते हैं।

6. ई-गवर्नेस के लिए (To Provide Governance)

डिजिटल इंडिया कार्यक्रम इस दिशा में किया गया एक प्रयास है. जिसके तहत डिजिटल रूप में सरकारी सुविधाओं को आम जनता के लिए सुलभ करवाने का प्रयास है।

इसके परिणाम स्वरूप आज हम देखते है कि अधिकतर सरकारी सेवाएँ ऑनलाइन उपलब्ध होने लगेगी. आप राशन कार्ड, आधार कार्ड से लेकर पेंशन तथा सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ लें सकते है।

7. इंटरनेट से ऑनलाइन शॉपिंग के उपयोग 

आज INTERNET ऑनलाइन शॉपिंग के उपयोग में क्रांति ला चूका है, इंटरनेट अब केवल चीजों को ऑनलाइन ऑर्डर करने तक ही सीमित नहीं है, ऑनलाइन शॉपिंग यह एक इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स (e-commerce) का एक रूप है जो अपने उपभोक्ताओं को कंप्यूटर के वेब ब्राउज़र या मोबाइल ऐप का उपयोग करके इंटरनेट पर विक्रेता से सीधे सामान खरीदने या सेवाएं लेने की अनुमति देता है।

8. सरकारी दफ्तरों में (In Government Offices)

आज कल सभी सरकारी दफ्तरों में काम कम्प्यूटरों पर होने लगा है। इंटरनेट के माध्यम से काम करने में सरलता और तेजी आ गयी है। बात बैंक की हो या आयकर विभाग की सारी जानकारी अब online ही स्टोर रहती है। इससे ना जानकारी खोने का डर रहता है ना चोरी होने का भय।

इंटरनेट की विशेषताएं

अभी तक आपने इंटरनेट से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में जाना है, तो आइये अब जानते है, इंटरनेट की विशेषताएं निन्मलिखित हैं।

  1. World Wide Web
  2. E-Mail
  3. Telnet
  4. File Transfer Protocol
  5. Internet Relay Chat (IRC)

1. World Wide Web

WWW का फुल फॉर्म World Wide Web होता है, जो की इंटरनेट का ही एक हिस्सा है। आप जब भी इंटरनेट में कुछ सर्च करते है, तो WWW की ममद से ही आपके सामने Document और विभिन्न प्रकार के डाटा आपके सामने दिखाए देते है। इसी के अंतर्गत Web Page भी आता है, जो की एक प्रकार का Document होता है, यह HTML (Hyper Text Markup Language) Tag के जरयीए कार्य करता है। HTML की ममद से सभी डिज़ाइन को एक साथ लिंक किया जा सकता है, जिसके बाद आपके सामने एक अच्छा और त्रुटि मुख Web Page आता है। प्रत्येक Web Page की अपनी अलग पहचान होती है, जिसे URL (Uniform Resource Locator) के नाम से जाना जाता है।

2. E-Mail

E-Mail की फुल फॉर्म Electronic Mail होती है। Email के लिए बहुत से लोग इंटरनेट का Use करते है। Email का उपयोग Messages को Send और Receive करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा ईमेल द्वारा किसी भी तरह के Document को भी send किया जा सकता है। इसके लिए आपको इंटरनेट पर पर Account बनाना पड़ता है, जो की Internet के Mail Server में एक Domain के साथ Connect होता है। जैसे की अगर हम Google Account की बात करे तो यह आपको फ्री में Gmail बनाने का विकल्प प्रदान करता है। इसको बनाने के लिए आप [email protected] की तरह बना सकते है, इसके लिए आपको Username Unique चुनना पड़ता है, जो की पहले से इंटरनेट के सर्वर में मौजूद ना हो।

3. Telnet

Telnet एक इंटरनेट प्रोटोकॉल नेटवर्क है, जिसका पूरा नाम Teletype Network Protocol (Telnet) है। जो की एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर के साथ एक्सेस करने के लिए Host में ममद करता है। Telnet Window होस्ट पर एक प्रोग्राम को Create करता है, जिसकी मदद से आप File को एक्सेस कर सकते है। Telnet को Libraries के द्वारा व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है, जिसकी वजह से यह Visitor को Information देखने के लिए Allow करता है।

4. File Transfer Protocol

File Transfer Protocol को FTP कहते है, जो की एक प्रकार का Internet Tool होता है। इसका उपयोग किसी भी File को एक Computer से दूसरे कंप्यूटर में ट्रांसफर या कॉपी करने के लिए किया जाता है। FTP बहुत ही सुविधाजनक Tool है

जो की बहुत ही आसानी से आपकी किसी भी फाइल को ढूंढ़कर आपको देता है, और आप उसको आसानी से Copy कर सकते है। ऐसे में आप अपने किसी भी Article या अन्य प्रकार के Data को Copy कर सकते है। आमतौर पर Software Companies FTP का उपयोग करती है।

5. Internet Relay Chat (IRC)

Internet Relay Chat (IRC) एक प्रकार का Chat Room होता है, जो की ज्यादातर वेबसाइट के अंदर Enable किया जाता है। जिसकी वजह से User सीधे अपनी समस्यां से सम्बंधित बात कर सकता है। IRC कई प्रकार के होते है, जिसकी मदद से आप Text या Document के जरिये दूसरे व्यक्ति के साथ अपनी समस्याओ को साझा कर उनका समाधान पा सकते है।

इंटरनेट से जुड़ी कुछ शब्दालियाँ (Some terminologies of Internet in Hindi) 

इंटरनेट से जुड़ी शब्दालियाँ निम्नलिखित हैं।

  1. Browser
  2. Intranet
  3. Url (uniform resource locator)
  4. Domain
  5. Hyperlink

1. Browser

Browser वह प्लेटफार्म है जहाँ यूजर Internet एक्सेस कर सकता है या यूँ कहें कि html दस्तावेज या उनसे सम्बंधित फाइलों को देख सकता है।

2. Intranet

Intranet एक आतंरिक नेटवर्क है जो कि एक विशेष क्षेत्र तक ही सीमित होता है तथा Internet मानकों का ही प्रयोग करता है।

3. Url (uniform resource locator)

Url मूल रूप से Internet पर उलब्ध वेबसाइट का पता होता है। वेब ब्राउज़र का उपयोग Internet संसाधनों को लोकेट करने में करते हैं।

4. Domain

डोमेन Internet पर वेबसाइटों का एक सेट है जो सामान अक्षरों के समूह पर समाप्त होता है। जैसे कि .Gov डोमेन सरकारी वेबसाइट को दर्शाता है जबकि .Org डोमेन संगठन श्रेणी (Organization) कि साइटों के लिए इस्तेमाल होता है

5. Hyperlink

Internet की दुनिया में एक hyperlink जिसे सिर्फ link भी कहते हैं यह डेटा का एक संदर्भ है जिसे पाठक क्लिक या टैप करके अनुसरण कर सकता है। हाइपरलिंक किसी संपूर्ण दस्तावेज़ या किसी दस्तावेज़ के भीतर किसी विशिष्ट तत्व को indicate करता है।

इंटरनेट सुविधा की उपलब्धता (Internet service provider)

इंटरनेट का उपयोग इसके लिए बनाये गये विभिन्न ब्राउज़र्स द्वारा किया जा सकता हैं, जैसे -: विंडोज एक्सप्लोलर, गूगल क्रोम, मोज़िला फायरफॉक्स, आदि. जो संस्था उपभोक्ताओं को इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध कराती हैं, उसे इंटरनेट सर्विसेज प्रोवाइडर्स [ISP] कहते हैं. भारत में यह सुविधा देने वाली कुछ बड़ी कंपनियां हैं 

  • बी.एस.एन.एल.,
  • वोडाफोन,
  • एयरटेल,
  • आईडिया,
  • एयरसेल.

इंटरनेट के फायदे (Benefits of Internet)

जब से हमारे बिच में इंटरनेट आया है, तब से बहुत सारे कार्य आसान हो चुके है। जिसके वजह से हमें बहुत फायदा हुआ है। तो अब हम इंटरनेट के फायदे Benefits of Internet के बारे में जानेगे। इंटरनेट के फायदे निम्नलिखित हैं।

  1. Job
  2. Online Office या Work From Home
  3. Online Bills
  4. Freelancing
  5. Online Shopping
  6. Entertainment
  7. Business Advertising

1. Job

जब से Internet आया है, तब से जॉब ढूंढ़ना बहुत आसान हो गया है। पहले नौकरी ढूंढ़ने के लिए बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता था, लेकिन अब बहुत सारी ऐसी वेबसाइट है, जो Jobs की जानकारी प्रदान करती है। और आप बहुत ही आसानी से अपने क्षेत्र की जॉब ढूंढ सकते है। इसके लिए आपको किसी भी Jobs Website पर जाकर Register करना है, और अपने पसंद की जॉब में Apply कर देना है।

2. Online Office या Work From Home

कुछ बड़ी कंपनियां ऐसी भी है, जो अपने सभी Employee को घर से Online काम करने के लिए देती है। अगर इंटरनेट नहीं होता तो श्याद आज कोई भी घर बैठे काम नहीं कर पाता।

जिस तरह से दुनिया में यह Covid की महामारी आयी है, ऐसे में सभी ने इंटरनेट की मदद से घर बैठे काम किया है। कही न कही इंटरनेट का बहुत बड़ा Advantages है, जिसकी वजह से ऑफिस बंद होते हुए भी लोग घर से काम कर रहे है।

3. Online Bills

जिस समय इंटरनेट नहीं था, तो सभी Bill को दफ्तर में जाकर Offline जमा करना पड़ता था। लेकिन आज इंटरनेट की बढ़ती तकनीक की मदद से Electricity Bill, Water Bill आदि को हम घर बैठे Online Pay कर देते है। इसके लिए हमारे पास Net Banking Credit Card या फिर कोई भी E Wallet जैसे PhonePe GooglePay या PayTm होना जरुरी है।

4. Freelancing

Freelancing एक बहुत ही अच्छा जरिया है, Online Earning करने का। जिसकी मदद से आप Online Typing करके पैसे कमा सकते है। इसके अलावा आप यहाँ पर और भी कई तरह से Earning कर सकते है।

Freelancing का हिंदी Meaning होता है, अपनी Skill द्वारा Internet के जरिये पैसे कामना। कई लोग इंटरनेट पर Blogging YouTube और Mobile से पैसे कमा रहे है। अगर आपके अंदर भी ऐसी कोई Skills है, तो आप भी किसी Freelancing Website पर Account बनानकर अच्छी खासी Income कर सकते है।

5. Online Shopping

अब आप इंटरनेट की मदद से घर बैठे Online Shopping कर सकते है। पहले आपको कुछ भी सामान लेने के लिए घर से बहार Market जाना पड़ता था। लेकिन आज आप अपनी पसंद के कपड़े और भी कई चीजों को Online पसंद करके घर बैठे मंगा सकते है।

इसके अलावा अगर आप किसी को Gift भेजना चाहते है, तो भी आप पहले ही Gift की Payment करके अपने किसी भी रिश्तेदार के घर गिफ्ट भिजवा सकते है। इसकी सबसे अच्छी बात यह है, की आपको ऑनलाइन शॉपिंग में किसी भी तरह का मोल भाव नहीं करना पड़ता है, बल्कि यहाँ से आप मार्किट से सस्ते दामों पर सामान खरीद सकते है।

6. Entertainment

इंटरनेट के माध्यम से Entertainment में बहुत ज्यादा बढ़ोत्तरी आयी है। पुराने समय में लोग सिर्फ वही कार्यक्रम देख पाते थे, जो की TV पर आते थे। लेकिन अब आप इंटरनेट के माध्यम से अपनी पसंद की कोई भी चीज Mobile टीवी या कंप्यूटर पर देख सकते है।

7. Business Advertising

पुराने समय में Business Advertising के लिए हमें जगह जगह पर Banner लगाने पड़ते थे। जिसमे ज्यादा खर्चा हुआ करता था। लेकिन आज के समय में हम Online Business Advertising कर सकते है। जिसमे आप Target Audience तक कम करके में अपने प्रोडक्ट को Promote कर सकते है।

इसके अलावा आप अपने Business से सम्बंधित Website बनाकर उसे इंटरनेट पर Promote करके अपने व्यापार को बढ़ा सकते है। कुछ लोग अपने बिज़नेस से सम्बंधित Affiliate Marketing का विकल्प भी प्रदान करते है, जिससे की लोग आपके Product को और ज्यादा Promote करते है। तो आप समझ गए होंगे की किस तरह से इंटरनेट हमारे बिज़नेस के लिए फायदेमंद है।

इंटरनेट के नुकसान (Disadvantages of Internet)

इंटरनेट के अगर कुछ फायदे है तो इसके नुकसान भी बहुत है तो चलिए इसके कुछ नुकसान के बारे में जान लेते है –

1.  इंटरनेट के द्वारा बहुत से बच्चे गलत चीज़ों को जाने अनजाने में कर बैठते है जैसे कि

कई बार वो लोग गलत वेबसाइट पर पहुँच कर ऐसी Information शेयर कर देते है जिससे कि उनको Financial नुकसान भी उठाना पर सकता है।

2.  इंटरनेट के द्वारा अश्लीलता को भी बड़ी ही आसानी से फैलाया जा सकता है। जिससे कि लोगो को बहुत नुकसान भी होता है और खाश कर यदि ये चीज़े छोटे बच्चों के नज़र में आ जाए तो इससे उनके मानसिकता पर भी काफी गलत प्रभाव पड़ता है।

3.  इंटरनेट की मदद से Negativity बहुत तेज़ी से और कम समय मे फैलाई जा सकती है और

आज के समय मे ऐसा हो भी रहा है जिसके कारण सरकार ने इसको रोकने के लिए कई कड़े कदम भी उठाए है। ताकि लोगो को Negativity और Negativity फैलाने वाले लोगो से बचाया जा सके। 

4.  इंटरनेट के द्वारा लोगो से ठगी भी आसानी से किया जाने लगा है जिसके शिकार आज के समय मे बहुत से लोग हो भी रहे है।

जैसे कि उनको झूठे विज्ञापन दिखा कर उनसे पैसा ले लिया जाता है और बाद में उनको कुछ भी उसके बदले नही दिया जाता है।

5.  इंटरनेट के द्वारा लोगो की जानकारी को भी चुराया जाता है। जैसे के आज के समय मे Google और Facebook जैसे Companies अपने Users का डेटा लेकर उसका इस्तेमाल खुद के फायदे के लिए करती है।

6.  इंटरनेट के जरिए Illegal Activities को भी आसानी से किया जाता है।

7.  इंटरनेट के जरिए कुछ लोग हैकिंग जैसे कामों को भी अंजाम देते है। जैसे कि अभी पिछले ही साल एक कंप्यूटर वायरस ने सभी को बहुत परेशान किया हुआ था। 

और उस Virus ने बहुत से Database को नष्ट भी कर दिया था तथा जिन लोगो ने Hackers को उनके द्वारा मांगे गए पैसे दे दिए थे तो 

उनके डेटा को ही हैकर्स ने फिर से Decrypt किया था। तथा कुछ का तो पैसा भी गया और उनका डेटा भी, इसी लिए आपको इंटरनेट पर हमेशा बहुत सावधान रहना चाहिए।

8. Cyber Bullying जैसा Crime भी इंटरनेट की मदद से ही किया जाता है जिसकी वजह से कुछ लोग Depression में आ जाते है और मर भी जाते है।

आशा है आपने यह पोस्ट पूरी जरूर पढ़ी होगी पोस्ट पसंद आई हो तो दोस्तो के साथ भी शेयर करे।

इसे भी पढ़े। 

computer network क्या हैं

Leave a Comment