Network Hub क्या है इसके प्रकार उपयोग, लाभ और हानि

हैलो दोस्तो आज के पोस्ट में हम Network Hub क्या है, इसके प्रकार और कैसे काम करता है के बारे में पढेगे तो आप पोस्ट को पूरा जरूर पढ़े।

पिछले पेज पर हमने Resistance की परिभाषा की जानकारी शेयर की थी तो उस आर्टिकल को भी पढ़े।

चलिए इस पेज पर हम Network Hub की जानकारी को पढ़ते और समझते हैं।

Network Hub क्या है

कंप्यूटर नेटवर्क में “Hub” एक डिवाइस है जो डेटा को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजने और प्राप्त करने के लिए उपयोग होता है। इसे एक सड़क चौराहे के रूप में समझा जा सकता है जहां बहुत रास्ते मिलते हैं और वाहन एक दूसरे से संवेदनशीलता से communication कर सकते हैं।

हब एक नेटवर्क के लिए एक Server की तरह काम करता है जो Data Packets को Broadcast करता है, यानी सभी डिवाइस को एक साथ सूचित करता है। जब एक डिवाइस Data Packets भेजता है, हब उसे सभी अन्य डिवाइसों तक पहुँचाता है, और फिर वह डिवाइस जो उसका है, उसे पकड़ लेता है।

Hub का उपयोग छोटे Networks में किया जाता है, जहां ज्यादातर डेटा को Broadcast किया जाता है और ज्यादातर डिवाइस एक दूसरे के साथ सीधे तरीके से communication कर सकते हैं। लेकिन इसका एक प्रमुख हनिकारक है कि जब एक डिवाइस डेटा भेजता है, तो सभी डिवाइस उसे सुन रहे होते हैं, और ऐसा करने से नेटवर्क का Traffic बढ़ जाता है, जिससे प्रदर्शन में कमी हो सकती है।

Modern Networks में, स्विच (Switch) ने हब की जगह ले ली है। Switch भी डेटा को प्राप्त करता है और उसे सिर्फ उस कंप्यूटर तक पहुँचाता है जिसके लिए यह डेटा है, इससे नेटवर्क पर कम Traffic होता है और सुरक्षा भी बढ़ती है।

अथवा 

Hub एक Networking Device होता है जिसकी मदद से अनेक Computer या अन्य Network Device को आपस में Connect किया जा सकता है जिससे कि वे आपस में Data और संसाधनों को शेयर कर सकते हैं।

हब के द्वारा Network के आकार को बढ़ाया जा सकता है क्योंकि हमें अनेक कोर्ट उपलब्ध होते हैं जिसके द्वारा विभिन्न Network Device को Connect किया जा सकता है।

Multiple Port उपलब्ध होने के कारण Hub को Multiple Port Repeater भी कहा जाता है। हब Signal को Amplify और Regenerate करता है। हब का इस्तेमाल LAN Connectivity के लिए होता है।

हालाकि आज के समय में हब के स्थान पर Switch का इस्तेमाल ज्यादा होने लगा है। सीधे शब्दों में कहे तो हब एक Networking Device है जिसकी मदद से अनेक Network Device को एक साथ Connect किया जा सकता है।

Network Hub कैसे काम करता है

हब सभी Network उपकरणों के बिच एक केंद्रीय Connection के रूप में काम करता है और एक डेटा प्रकार को Handle करते हैं, जिसे फ्रेम कहा जाता है। यदि कोई  प्राप्त फ्रेम होता है,

तो उसे Amplify करने के बाद Destination Computer के Port पर ट्रांसमिट किया जाता है। हब में इसके प्रत्येक Port के लिए एक फ्रेम पास किया जाता है, चाहे वह केवल एक Port के लिए Destined हो।

इसमें यह Decide नही होता है की फ्रेम को किस Port पर भेजा जाना चाहिए। इसीलिए फ्रेम को हर Port पर पहुंचना होता है। जो यह सुनिचित करता है। की यह अपने Intended Destination तक पहुंच जाएगा

जो Network पर बहुत अधिक ट्रैफिक Generate करता है और Network को नुकसान पहुंचा सकता है। हब स्विच की तुलना में धीमे होते हैं क्योंकि यह एक ही समय में सूचना भेजने या प्राप्त करने में सक्षम नहीं है। इसलिए हब स्विच की तुलना में सस्ते होते है। 

अथवा 

जब हम मल्टीपल डिवाइस पर कार्य कर रहे होते हैं तो कोई होस्ट फ्रेम भेजता है उस वक्त हब फ्रेम सभी पोर्ट में भेजने का कार्य करता है नेटवर्क हब फ्रेम के प्रकारों को अलग नहीं करता जब Unicast या Multicast या ब्रॉडकास्ट हो सभी फ्रेम को सभी पोर्टो में फॉरवर्ड करने का काम करता है

फ्रेम वही एक्सेप्ट करता है इसका मैक ऐड्रेस फ्रेम के डेस्टिनेशन मेक एड्रेस फील्ड के बराबर हो बाकी सारे होस्ट इसे रिसीव करके बेस्ट कार्ड डिस्कार्ड कर देता है। इस प्रकार Network Hub कार्य करता है।

Network Hub का उपयोग

1. Education and Training :- हब का उपयोग शिक्षा क्षेत्र में किया जाता है, जहां नेटवर्क के कामकाज को समझाने और सीखने के उद्देश्य से इसका प्रयोग किया जाता है।

इसके माध्यम से छात्र नेटवर्क कैसे काम करता है और कोलिजन क्या होता है, जैसे नेटवर्क के मूल अवधारणाओं को समझ सकते हैं।

2. Collision Testing :- नेटवर्क इंजीनियरिंग और testing scenarios में कई बार हब का उपयोग कॉलिशन टेस्टिंग के लिए किया जाता है, जिसके द्वारा डाटा के टकराओ को देखा और परखा जाता है।

3. Temporary Projects :- हब का उपयोग छोटे और अस्थायी नेटवर्क या परियोजनाओं में temporary networks के लिए किया जाता है जहां उच्च प्रदर्शन की आवश्यकता नहीं होती है एवं जहां नेटवर्क ट्रैफिक और Collisions को ठीक से प्रबंधित करने की आवश्यकता नहीं होती है।

4. Laboratories :- नेटवर्किंग की बुनियादी अवधारणाओं को सिखाने के लिए हब का उपयोग  नेटवर्किंग प्रयोगशालाओं में किया जाता है। वे स्विच जैसे अधिक उन्नत नेटवर्किंग उपकरण पेश करने से पहले छात्रों को broadcast domains और collision domains जैसे बुनियादी नेटवर्किंग सिद्धांतों को समझने में मदद करते हैं।

5. Wake-on-LAN (WOL) :- हब का उपयोग Wake-on-LAN उद्देश्यों के लिए किया जाता है। WoL एक ऐसी सुविधा है जो किसी नेटवर्क डिवाइस को दूर से संचालित करने की अनुमति देती है। वेक-ऑन-लैन पैकेट भेजकर, आप किसी कंप्यूटर या अन्य संगत डिवाइस को जगा सकते हैं।

Network Hub के प्रकार

Hub दो प्रकार का होता है:-

  1. Passive Hub
  2. Active Hub
  3. Intelligent Hub

1. Passive Hub

यह सिग्नल को जैसा है उसी स्थिति में आगे भेज देता है इसलिए इसे power supply की जरुरत नहीं होती है. Athva

एक्टिव हब को मल्टीपोर्ट रिपीटर भी कहते है। इन्हे पावर सप्लाय की जरुरत नहीं होती है। यह सिग्नल को रिजेनरेट करने के साथ ही सिग्नल को इम्प्रूव भी है।

इस हब को काम करने के लिए बिजली की आवश्यकता नहीं होती है। मतलब कि Active Hub का इस्तेमाल केवल कनेक्टर के रूप में किया जाता है।

2. Active Hub

इसमें सिग्नल को दुबारा generate किया जाता है, इसलिए ये भी repeater की तरह कार्य करते है। इन्हें multiport repeater कहते है इसमें power supply की जरुरत होती है।

 यह Passive Hub की तुलना में अधिक विशेष होते हैं। यह किसी डेटा को अन्य जुड़े कंप्यूटर में भेजने के साथ-साथ उसमें निगरानी रखने का भी कार्य करता हैं।

यह सभी पैकेट को आवश्यकताओं के अनुसार विभाजित कर उसको जरूरतों के अनुसार शेयर करने का कार्य करता हैं। यह ऐसे पैकेट में भी उचित बदलाव करने में सक्षम होता है जो किसी रूप में श्रतिग्रस्त होते हैं।

अगर किसी कारण से इस डिवाइस का कोई port कमजोर सिग्नल प्राप्त करता हैं, लेकिन वह पढ़ने योग्य हैं, तो हब ऐसे कमजोर सिग्नल को अन्य किसी पोर्ट में शेयर करने से पहले उसे मजबूत सिग्नल में संगठित कर लेता हैं।

यह कमजोर सिग्नल को ठीक तरह से काम करने के लिए उसे समय-समय पर बूस्ट भी करते रहता हैं जिस कारण LAN के कार्यों में निरंतरता बनाये रखी जा सकें।

3. Intelligent Hub

इसकी कार्य क्षमता और सुविधाएं ऊपर बताए गए Hub से अधिक होती हैं। इनके संचालन में software का उपयोग अधिक मात्रा में किया जाता हैं। जो नेटवर्क में आ रही समस्याओं की खोज करने और उसका समाधान करने में अपनी अहम भूमिका निभाते हैं।

यह LAN को ठीक तरीके से कार्य करने और उसकी कार्य क्षमताओं में वृद्धि करने का भी कार्य करता हैं। Intelligent hub सरलता और तीव्रता के साथ डेटा को अन्य जुड़े कंप्यूटर के साथ शेयर कर पाता हैं। यह सूचनाओं के आदान-प्रदान करने की एक कुशल डिवाइस हैं।

Network Hub की विशेषताएं

एक नेटवर्क हब में मुख्य रूप से निम्नलिखित विशेषताएं होती है।

  1. एक नेटवर्क हब नेटवर्क की Performance में कोई बदलाव नहीं करता है।
  2. एक USB Hub अधिकतम 127 तथा Network Hub अधिकतम 32 Computers अथवा अन्य Devices को Connect कर सकते हैं।
  3. Hub में 4 से 24 Size Port उपलब्ध होती है।
  4. Hub में Multiple Port होते हैं।
  5. कुछ Hub Signal को Amplify और Regenerate करने में भी सक्षम होते हैं।
  6. Hub को स्थापित करना या इसकी सहायता से LAN का निर्माण करना बहुत आसान है।
  7. Hub सभी तरह के Network Media को Support करता है।

Network Hub के लाभ

Hub के कुछ लाभों निम्नलिखित है।

  1. सरलता : Hub एक सरल Network Device  है जिसे स्थापित करना और operate करना आसान है। इसमें किसी भी विशेष configuration की जरूरत नहीं होती, जिससे इसे सबसे आसान तरीके से Set-ups किया जा सकता है।
  2. कम लागत : हब की कीमत Switch के मुकाबले कम होती है, जिससे यह एक budget-friendly विकल्प बनता है। छोटे Networks या तात्कालिक उपयोग के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है।
  3. संबलन (Support) : हब सभी जुड़े हुए Devices को समझता है और उन्हें सभी को सुनने की अनुमति देता है। इसका मतलब है कि जो भी डेटा एक Device से आता है, यह उसे उस नेटवर्क के सभी Devices को पहुँचा देता है।
  4. आसान Upgrade : हब को नेटवर्क में नए डिवाइस जोड़ने के लिए आसानी से Upgrade किया जा सकता है, क्योंकि इसमें ज्यादा configuration की जरूरत नहीं होती है।
  5. सामान्य प्रदर्शन : हब का उपयोग छोटे Networks या तात्कालिक उपयोग के लिए सामान्य प्रदर्शन वाले जगहों पर किया जा सकता है, जहां अधिकतम Broadcast और अनुकूलन स्थितियाँ तोली जा सकती हैं।

हालांकि, इसके बावजूद, Modern Networks में आमतौर पर Switch का उपयोग किया जाता है, जो सुरक्षा, प्रदर्शन, और Network Control के मामले में बेहतरता प्रदान करता है।

Network Hub के नुकसान

Hub के कुछ नुकसान निम्नलिखित हैं।

  1. Broadcast Traffic : हब डेटा को सभी जुड़े हुए डिवाइसों को ब्रॉडकास्ट करता है, जिससे नेटवर्क पर बहुत अधिक Traffic हो सकता है। इससे Network का प्रदर्शन प्रभावित हो सकता है और सुरक्षा में समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं।
  2. सुरक्षा संबंधित चुनौतियाँ : हब डेटा को अज्ञात डिवाइसों तक पहुँचाता है, जिससे सुरक्षा संबंधित चुनौतियाँ उत्पन्न हो सकती हैं। इससे unauthorized पहुँच और network research हो सकता है।
  3. कोलीजन (Collision) की समस्या : जब दो या दो से अधिक डिवाइस एक साथ डेटा भेजते हैं, तो Collision हो सकती है, जिससे नेटवर्क की प्रदर्शनमान कम हो सकती है।
  4. नेटवर्क स्कैलेबिलिटी (Scalability) : हब की Scalability सीमित होती है, और यदि नेटवर्क में और डिवाइस जोड़े जाते हैं, तो नेटवर्क का प्रदर्शन घटित हो सकता है।
  5. डेटा सुरक्षा : हब के माध्यम से डेटा सुरक्षित नहीं रहता है, क्योंकि यह डेटा को सभी डिवाइसों तक पहुँचाता है, जिससे Privacy समस्याएँ हो सकती हैं।
  6. Switch की अभावी विशेषताएँ : हब की तुलना में स्विच में कुछ विशेषताएँ अभावी हो सकती हैं, जैसे कि business networks में अधिक सुरक्षा और Network Management।

ये नुकसान उन समस्याओं को दर्शाते हैं जो Hub का उपयोग करने में उत्पन्न हो सकती हैं, और इसलिए Modern Networks में अक्सर स्विच का उपयोग किया जाता है जो इन समस्याओं को कम कर सकता है।

    Network Hub के विशेषताएं

    हमने आपको अभी बताया कि नेटवर्क हब क्या है और नेटवर्क हब कैसे काम करता है। यहाँ हब की महत्वपूर्ण विशेषताएं हैं,

    1. यह प्रसारण और साझा बैंडविड्थ के साथ काम करता है।
    2. इसमें 1 प्रसारण डोमेन और 1 टकराव डोमेन है।
    3. OSI मॉडल की फिजिकल लेयर पर काम करता है।
    4. हब का उपयोग करके वर्चुअल LAN नहीं बनाया जा सकता।
    5. half-duplex ट्रांसमिशन मोड के लिए समर्थन प्रदान करता है।
    6. हब में केवल एक प्रसारण डोमेन होता है और ये फैले हुए ट्री प्रोटोकॉल का समर्थन नहीं करता।
    जरूर पढ़िए :
    Capacitor की परिभाषाTransistor की परिभाषा
    MOSFET की परिभाषाVaristor की परिभाषा

    Conclusion

    हब क्या हैं? में आपने जाना कि यह एक नेटवर्किंग डिवाइस होता हैं जो physical layer की सहायता से अपना कार्य करता हैं। यह एक ऐसा उपकरण होता हैं जिसकी सहायता से किसी सूचना को एक से अधिक कंप्यूटर को आसानी से भेजा जा सकता हैं।

    इसके अंदर अनेकों ports होते है जिनकी सहायता से विभिन्न कंप्यूटर आपस मे कनेक्टेड रहते हैं और सूचनाओं को प्राप्त करते हैं। तो दोस्तों आज आपने हमारी इस पोस्ट के माध्यम से जाना कि Hub क्या होता हैं अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने अन्य साथियों के साथ भी अवश्य शेयर करें।

    Leave a Comment